Advertisements

Monday, 1 May 2017

श्वेत क्रांति / ऑपरेशन फ्लड के बारे में जानकारी


दोस्तो आज हम बात करेंगे भारत में हुई श्वेत क्रांति के बारे में। इसे ऑपरेशन फ्लड के नाम से भी जाना गया। हम बात करेंगे की इस बड़े बदलाव को श्वेत क्रांति क्यों कहा गया ?

White Revolution GKtree Operation Flood

सन 1970 में राष्ट्रिय डेरी विकास बोर्ड (नेशनल डेरी डेवलपमेंट बोर्ड - NDDB ) ने देश में दुग्ध के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए कुछ बड़े कदम उठाये। इस पूरे मिशन की बागडोर डॉ वर्गीस कुरियन (चेयरमैन अमूल ) को सौंपी गयी जो की बाद में NDDB के चेयरमैन भी बने। और इस पहल का असर यह हुआ कि भारत दुग्ध अभाव देश से बदलकर दुनिया का सबसे अधिक दुग्ध उत्पादन करने वाला देश बना जिसने 1998 में अमेरिका को भी दुग्ध उत्पादन में पीछे छोड़ दिया। 
अमूल ने इस क्रांति के वक्त एक एक्सपेरिमेंट किया था जिसे आनंद पैटर्न कहा गया। और इस एक्सपेरिमेंट ने ऑपरेशन फ्लड की सफलता में काफी योगदान दिया। वर्गीस कुरियन को श्वेत क्रांति का जनक कहा जाता है। उनके इतने बड़े योगदान के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री ने उन्हें NDDB का चेयरमैन नियुक्त कर दिया था। 
ऑपरेशन फ्लड के मुख्य उद्देश्य निम्न थे :
1. दूध के उत्पादन में वृद्धि (जिससे दूध की बाढ़ आ जाये )
2. ग्रामीण क्षेत्रों की आय को बढ़ाना। 
3. दूध के अच्छी कीमत मिलना। 
ऑपरेशन फ्लड को 3 फेजों में कार्यान्वित किया और हर फेज में प्राथमिकता जो की दूध के उत्पादन को बढ़ाने की थी उसे लेकर काम किया गया। 
आजके आर्टिकल में इतना ही अगर आपको अच्छा लगा हो तो LIKE SHARE COMMENT जरूर करें।

अन्य महत्वपूर्ण जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करिये :

Share this article :

0 comments:

Post a comment